Friday, December 12, 2008

यूँ ही

मैंने सोचा
कि उसके चले जाने से,
जो कांपती सी खाली जगह बची है,
वहाँ कुछ शब्द रख दूँ,
फिर मन में आया,
कि खुरदरे संबंधों और अपमानित आशाओं को क्या नाम दूँगा?

क्यूंकि जाले सिर्फ़ कमरों में ही नहीं,
मन और शरीर पर भी तो उग आए हैं!

मेरे शब्दकोष पर लगे ताले कि चाबी
तो बरसों पहले ही खो दी थी उसने,
पता नही यह जगह
उसे अब याद भी होगी या नही.
इस ताले में रखे शब्द
मुझे उससे जोड़ेंगे या स्पंदित होकर ख़ुद भी खो जायेंगे.

मुझे मालूम है कि
बिना शब्दों के
न तो वो बचेगी न ही ये स्पंदन,
जो बचेगा वो मैं ही होऊंगा ,
क्यूंकि उजाले और मटियाले कि महक बताने के लिए
किसी को तो बचना होगा
शब्दों कि जगह.

41 comments:

नीरज गोस्वामी said...

क्यूंकि जाले सिर्फ़ कमरों में ही नहीं,
मन और शरीर पर भी तो उग आए हैं!
विलक्षण उपमा है ये...बेहतरीन रचना....
नीरज

seema gupta said...

क्यूंकि उजाले और मटियाले कि महक बताने के लिए
किसी को तो बचना होगा
शब्दों कि जगह.
" very emotional and touching expressions, liked it"

regards

रंजना [रंजू भाटिया] said...

उजाले और मटियाले कि महक बताने के लिए
किसी को तो बचना होगा
शब्दों कि जगह.

बहुत गहरी और भावपूर्ण रचना है ...

वर्षा said...

आशाएं कैसे अपमानित हो सकती हैं। कविता अच्छी है।

poemsnpuja said...

बहुत खूबसूरत लिखा है. पहली चार पंक्तियाँ ही मोह लेती हैं" उसके चले जाने से, कांपती सी जो जगह बची है, उसमें कुछ शब्द रख दूँ"...बिल्कुल अलग से बिम्ब होते हैं आपके, मुझे आपकी शैली बेहद पसंद है.

BrijmohanShrivastava said...

तीन तारीख से आपका मुस्कराता हुआ चेहरा नहीं देख पाया था बडा उदास उदास सा महसूस कर रहा था /किसी के चले जाने पर रिक्त स्थान की पूर्ति शब्दों से करना बहुत कठिन होता है और अगर शब्द तलों में बंद हों तो और भी कठिन /बिल्कुल उलझन स्वाभाविक है तलों में से निकले शब्द उनसे जोड़ भी सकते हैं और नहीं भी /

डॉ .अनुराग said...

बहुत खूब......ये कमरा कई दिनों से वीरान था ....कविता की आखिरी पंक्तिया ख़ास पसंद आयी

परमजीत बाली said...

बहुत ही उम्दा रचना है।बहुत बढ़िया लिखा है-

मुझे मालूम है कि
बिना शब्दों के
न तो वो बचेगी न ही ये स्पंदन,
जो बचेगा वो मैं ही होऊंगा ,
क्यूंकि उजाले और मटियाले कि महक बताने के लिए
किसी को तो बचना होगा
शब्दों कि जगह.

Vijay Kumar Sappatti said...

bahut sundar ,

man ki baaten , man ki udasiyan , ubhar kar aa gayi hai ..

vijay
poemsofvijay.blogspot.com

दीपक कुमार भानरे said...

बिना शब्दों के न .... वो मैं ही होऊंगा .
बहुत ही खूबसूरत रचना .

रश्मि प्रभा said...

sach kaha ....जाले सिर्फ़ कमरों में ही नहीं,
मन और शरीर पर भी उग आए हैं!
bahut hi marmsparshi rachna.....

विवेक said...

जाले मन और शरीर पर...क्या कहा है...मान गए साहब...

राज भाटिय़ा said...

बहुत खुब.
धन्यवाद

Anonymous said...

nice one SURBHITMANN.........

Manoshi said...

नया सा लगा, शुक्रिया।

प्रदीप मानोरिया said...

manuj bhaai hameshaa की तरह गहरे विचार सुंदर शब्द संयोजन

अक्षय-मन said...

bahut hi ghera likha hai bhai.....................
dil jeet liya........
ab use aapne aap sambhal kar rakhna mera dil hai ab aapke paas.....

दिगम्बर नासवा said...

मैंने सोचा
कि उसके चले जाने से,
जो कांपती सी खाली जगह बची है,
वहाँ कुछ शब्द रख दूँ,
फिर मन में आया,
कि खुरदरे संबंधों और अपमानित आशाओं को क्या नाम दूँगा?

बहुत ही गहरा संवाद अपने आप से
सुंदर रचना, आपका रचना संसार बहुत ही घना है रिश्तों की बारीकियों के साथ

sandhyagupta said...

Atyant bhavpurna....

Dr.Bhawna said...

बहुत सुंदर रचना है, नयी-नयी उपमाओं का प्रयोग किया है आपने बहुत-बहुत बधाई...

Suneel R. Karmele said...

bahut achchhi rachna manuj bhai, anvarat likhate rahe. pichhle month se carrom tournaments me vyast hoo. isliye blog par kuch post nahi kar pa raha hu. thanks for visit.

रंजना said...

sundar aur gahan bhaav.sundar bhavabhivyakti ke liye aabhaar.

विनय said...

अति सुन्दर!

Cinderella. said...

Hey !

How are you doing..? I came by to ask you your email id so I can send you my invite. I aint gonna start blogging anytime soon but just wanna keep the link alive.

you can reply me here. I'l come by chk again later.

Tc.

मनुज मेहता said...

Thanks Cinderella for remembering me. i still confused what has happened to you, why have you stopped writing on blog? my email id is surmaiman@gmail.com and manuj@journalist.com. both are my regular accounts i check both of them at higher priority.

regards
Manuj Mehta

Merry X-Mas.

Vijay Kumar Sappatti said...

kya baat hai , kya khoob likha hai ...

man ko chooti hui aur gahraati hui.. saath mein yaado ko laati hui..

bahut khoob , badhai ..

kabhi hamare blog par bhi aayiye.

vijay
poemsofvijay.blogspot.com

BrijmohanShrivastava said...

नया साल आपको मंगलमय हो

Harkirat Haqeer said...

मुझे मालूम है कि
बिना शब्दों के
न तो वो बचेगी न ही ये स्पंदन,
जो बचेगा वो मैं ही होऊंगा ,
wah...! soch rahi hun itani der se kyo aayi.tarif k liye sabad nahi hain mere pas bus itana hi kahugi aaj ruh tript hui.

MUFLIS said...

"kyaomki jaale sirf kamro mei hi nhi, mn aur shreer pr bhi to ugg aaye haiN.."

aashaaoN ne niraasha ke saath rishta qaayam kr ke bhi apna vujood nhi khoya hai...

bahot hi umdaa izhaar hai...
mubaarakbaad qubool farmaaeiN !!

---MUFLIS---

Harkirat Haqeer said...

कुछ रहे वही दर्द के काफिले साथ
कुछ रहा आप सब का स्‍नेह भरा साथ
पलकें झपकीं तो देखा...
बिछड़ गया था इक और बरस का साथ...

नव वर्ष की शुभ कामनाएं..

प्रदीप मानोरिया said...

नव वर्ष में वंदन नया ,
उल्लास नव आशा नई |
हो भोर नव आभा नई,
रवि तेज नव ऊर्जा नई |
विश्वास नव उत्साह नव,
नव चेतना उमंग नई |
विस्मृत जो बीती बात है ,
संकल्प नव परनती नई |
है भावना परिद्रश्य बदले ,
अनुभूति नव हो सुखमई |

Vijay Kumar Sappatti said...

i came first time on your blog . i am really impressed. very good poem. specialy these lines क्यूंकि जाले सिर्फ़ कमरों में ही नहीं,
मन और शरीर पर भी तो उग आए हैं!...

great work of writing.

kabhi fursat mile to mere blog par aayienga . : poemsofvijay.blogspot.com

aapka

vijay

Vijay Kumar Sappatti said...

sorry it was third time ...

i came and read this ..

vijay

निखिल आनन्द गिरि said...

सुन चुका हूं आपके मुंह से ये कविता....बढिया है..बहुत बढिया...

sandhyagupta said...

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !!

श्रद्धा जैन said...

Manuj ji shabad khatam ho gaye hain kya kahun
kuch shbad kaha se milenge un rishton ke liye

bus khmosh si hi gayi hoon
itna ghara ................

विनीता यशस्वी said...

क्यूंकि जाले सिर्फ़ कमरों में ही नहीं,
मन और शरीर पर भी तो उग आए हैं!

bahut achha.....

Reetika said...

kurdure sambhando aur apmanit aashaon....... behad samvendansheel shabd, laga kisi ne man khol kar rakh diya hai.....

sandhyagupta said...

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ .

BrijmohanShrivastava said...

आपका कमरा एक माह से रिक्त है सर जी

Madhuminal said...

bahut marmsparshi shabd hai